एहसास

सुमेधा , की आँखों से आँसू थमने का नाम नही ले रहे थे , बच्चे भी माँ को देख सहमें से उसकी बगल में दुबक कर सो गए थे । पाँच साल की परी और दो महीने का मुन्ना उसकी दोनों बाहों का तकिया बना कर चुपचाप सो रहे थे । धीरज का कहीं कुछ पता नही था , कह कर गया था ऑफ़िस में देर हो जाएगी लेकिन कितनी देर होगी ये नही कहा था ।

हर रोज़ की तरह बाहर के कमरे से गालियों और शराब की दुर्गंध आ रही थी । सुमेधा ने अपने कमरे की भीतर से सिटकनी लगा ली थी । आज भी सुधीर को छोड़ने कुछ अंजान , टेढ़ी मुस्कान लिए , आर-पार करती नज़रों से सुमेधा को सिर से पाँव तक घूरते वो लोग वहीं मंडराते रहे थे और पूछा था ,

भाभी जी कौन हैं ये आपके ?

सुमेधा  उनकी नज़रों से भीतर तक काँप रही थी उसने थरथराते हुए जवाब दिया था जो वो कई बार नए-नए अजनबियों को दे चुकी थी ,

जी , मेरे पति के छोटे भाई हैं , ये ऑफ़िस से आते ही होंगे ।

उसने “ये ऑफ़िस से आते ही होंगे” पर खासा ज़ोर दिया था । उसके तन को भेदती वो अजनबी नज़रें उसे घूर रही थीं जैसे वो निरवस्त्र हो । वो तेज़ी से भीतर कमरे में आई और कमरा बंद कर लिया था । परी भयभीत सी सुमेधा से चिपक गई थी , मुन्ना माँ की छाती से चिपका उसकी धड़कनें महसूस करता खोया सा उसे ताक रहा था ।

पता नही वो लोग गए या वहीं हैं लेकिन उसका भय कायम था । उसकी शादी के बाद से ये सिलसिला चल रहा था और आगे कब तक चलेगा वो नही जानती थी । उसने अपने लिए लड़ना सीखा ही नही था , कभी ज़रुरत ही नही पड़ी थी । पापा के रहते वो कितनी महफ़ूज़ थी । उसका चेहरा पढ़कर ही वो सब जान जाते थे लेकिन अब उसका चेहरा पढ़कर जानने वाला कोई नही था । उसे कुछ कहने की आदत ही नही थी , काश कोई ऐसा होता जो उसके दिल को समझ लेता , उसके सुख या दुख को जानता । धीरज इस बारे में कुछ नही कहते थे , न ही सुनते थे । आज सब कुछ उसकी बरदाश्त से बाहर हो रहा था , वो अपने इन हालातों से मुक्ति चाहती थी । कोई रास्ता सूझ नही रहा था कि क्या करे , कैसे करे ? कोई नही था जिससे दिल हल्का करले , बस पापा को याद करते-करते रोती रही ।

कोई नर्म , मुलायम स्पर्श उसके पास बैठा और उसके सिर को सहलाता रहा , वही पापा का स्पर्श था , बड़ा सुखद एहसास , उसे कब नींद आ गई पता नही । सुबह मुन्ना की कुनमुनाहट से उसकी आँख खुली , परी अब भी गहरी नींद में सो रही थी । उसे याद आया कि धीरज ऑफ़िस से पहुँचा कि नही ? दरवाज़ा खोला तो देखा धीरज सोफ़े पर सो रहा था और सुधीर नदारद था ।

सुमेधा किचन में मुन्ने का दूध बनाने गई तो मुन्ने को झूले में लिटा गई । मुन्ना माँ को पास न पाकर रोने लगा तो धीरज की आँख खुल गई । वो ऑफ़िस के ही कपड़ों में सो गया था । किचन में आकर सुमेधा के पास खड़ा हो गया , सुमेधा मुड़ी तो उसे सामने देख कर घबरा गई ,

अरे , सॉरी , मुझे पता ही नही चला तुम कल रात कब लौटे । मैं दरअसल कल बहुत डर गई थी इसलिए कमरा अंदर से बंद कर लिया था । कब नींद आ गई पता ही नही चला । 

धीरज उसका मुँह देख रहा था ,

मेधा , तुम ठीक तो हो ? कल क्या हुआ , तुम बाहर का दरवाज़ा खुला छोड़कर क्यों सो गईं ? ये सुधीर कहाँ चला गया ?

सुमेधा की आँखें बरस रही थीं , उसने सुबकते हुए बीती रात का सारा किस्सा सुना दिया । धीरज चुपचाप सुनता रहा और एक लंबी , बेबस साँस छोड़ता हुआ कमरे में आया तो देखा कि सुधीर के बिस्तर पर एक ख़त रखा था ।

धीरज भाईसाहब और सुमेधा ,

मैं कल जब नशे में सोया था तो सुमेधा के पापा ने आकर मुझे हिलाकर उठाया और पकड़ कर बाहर ले गए । उन्होंने मुझ से कहा कि अगर मैं ये घर छोड़कर नही गया तो वो कुछ भी कर सकते हैं । उन्होंने मुझसे कहा कि उनकी बेटी सुमेधा की आँखों में आँसू का कारण तुम बने हो और ये मैं सह नही सकता

भाईसाहब सच मानिए वो थे सचमुच थे , मुझे बहुत डर लग रहा है , वो मेरा पीछा कर रहे हैं । मैं जा रहा हूँ , सुमेधा मुझे माफ़ कर देना , अब मैं तुम्हें सताने कभी नही आऊँगा ।

सुधीर

सुमेधा रोती जा रही थी , कल की बात तो उसने धीरज को बता दी थी लेकिन वो एहसास नही बताया था । क्या था वो एहसास जो अब भी उसकी परवाह कर रहा था , जो अब भी उसकी आँखों में आँसू नही देख सकता था ।

3 thoughts on “एहसास

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s