बाबू

boy riding bicycle
Photo by malcolm garret on Pexels.com

गीता संकरी गलियों में भागती बाबू को ढूँढ रही थी । अंधेरा होने को था लेकिन उस शैतान का कहीं कोई पता नही था । छोटा सा छ: साल का बच्चा , कहाँ चला गया ? उसका गला सूख रहा था , सिर चक्कर खा रहा था कि तभी उसने बाबू को दूर तालाब की ओर जाते हुए देखा । वो बेतहाशा उसके पीछे भागने लगी , बाबू तालाब तक पहुँच गया था , कहीं वो डूब ना जाए , वो डर कर चिल्लाई ,

बाबू….बाबू…..

लेकिन सूखे गले में आवाज़ दब गई , वो फिर भी बाबू को पकड़ने के लिए भागती रही और चिल्लाती रही , तभी किसी ने उसे ज़ोर – ज़ोर से पुकार कर हिलाया ,

गीता…गीता…..

हड़बड़ा कर गीता उठ बैठी….घबराकर उठी तो दिनेश को सामने पाया , दिनेश उसे हिला रहा था । उसने सोच कर चैन की साँस ली कि चलो ये सपना ही था , हक़ीक़त नही । दिनेश उसकी ओर पानी का गिलास बढ़ाते हुए बोला ,

फिर वही सपना देखा !

गीता ने नम आँखों से दिनेश को देखते हुए सिर हिला दिया , ये दर्द उसका दर्द था । दिनेश उसके बालों को सहलाते हुए बोला ,

बाबू अब पच्चीस साल का हो गया है । उसकी फ़िक्र करना छोड़ दो , सब ठीक है ।

दिनेश ने तो कहने को कह दिया लेकिन वो अपने दिल को कैसे समझाए । वो दिन उसे कभी चैन से सोने ही नही देता , कैसे उन्होंने छ: साल के बाबू को अकेले प्लेन में बैठा कर विदेश भेज दिया था । वो उसे एयरपोर्ट छोड़ने तक भी नही जा सकी थी , नन्हा सा बच्चा क्या सोचता होगा ? अकेला कितना डर गया होगा । लेकिन वो क्या करती , अचानक ख़बर आई थी कि गाँव में दिनेश के पिता जी की तबीयत बहुत ख़राब है और उसे बाबू को माँ के पास छोड़ कर पीकू , आदी को लेकर जाना पड़ा था । बाबू को इसलिए छोड़ना पड़ा क्योंकि एक हफ़्ते में उसकी लंदन की फ़्लाइट थी । वो पहली बार अपने मम्मी-पापा के पास जा रहा था । उसे गीता और दिनेश ने कितना समझाया था कि उसके असली मम्मी-पापा वही हैं और उसे अब उनके पास जाना होगा । बाबू की हज़ार सवाल उठाती मासूम आँखों से वो भीतर तक टूट रही थी । उसने सोचा था कि पिता जी को देख कर वापस आ जाएगी , बाबू को एयरपोर्ट तक छोड़ने जाएगी , उसे प्यार से सब समझा देगी लेकिन वो नही आ पाई थी । दो दिन बाद पिता जी गुज़र गए और उसे वहीं रहना पड़ा था । चाह कर भी वो किसी से अपने मन की बात नही कह पाई थी कि बाबू बहुत छोटा बच्चा है , वो उसे अपनी माँ समझता है , उसे पास नही देखेगा तो डर जाएगा , गीता के दिल पर भारी पत्थर रखा था । उसने न जाने कितनी रातें अपने अपराधी मन के साथ जागते बिताई थीं । आज तक वो ख़ुद से नाराज़ है कि अपने मन के लिए आवाज़ क्यों नही उठा पाई थी ? क्यों डरती रही अपने एहसासों को ज़ाहिर करने में ? क्यों भाग कर उसके पास नही गई थी ? बाबू अकेला कैसे गया होगा उसे बार-बार टॉयलेट जाने की आदत थी , उसने कैसे चलते प्लेन में सहायता ली होगी ? अंजान लोगों में अकेला इतने घंटे , भूख लगेगी या प्यास लगेगी तो कैसे कहा होगा ?  वो तो हर एक घंटे में कुछ खाने को मचल उठता था , पढ़ते-पढ़ते भी थोड़ी-थोड़ी देर में उठता और कुछ नई खाने की चीज़ ढूँढने के लिए फ़्रिज खोल कर खड़ा हो जाता था । कितनी डाँट पड़ती थी उसे कि फ़्रिज यूँ मत खोलकर खड़ा हुआ कर , पर नही उसे तो अपनी दादी को सताने में मज़ा आता था । हाँलाकि उसने पहले अपनी दादी को कभी दादी नही कहा था । पीकू और आदी नानी कहते थे तो वो भी नानी ही कहता था । माँ साथ रहती थीं इसलिए तीनों बच्चों की परवरिश गीता के लिए आसान हो गई थी । आस-पास , नाते – रिश्तेदार यही समझते थे कि गीता और दिनेश के तीन बच्चे हैं ।

बाबू का गीता के पास आना भी इत्तेफ़ाक ही था । भाई-भाभी विदेश में नौकरी कर रहे थे , उनका एक बेटा था , अचानक भाभी जल्दी ही फिर माँ बन रही थीं । ग्यारह महीने में दूसरा बच्चा हो गया , विदेश में दोनों नौकरी कर रहे थे ऐसे में नौकरी के साथ दो बच्चों की परवरिश मंहगी और मुश्किल थी । क्या करें , कैसे करें , समझ नही आ रहा था , माँ का वीज़ा नही मिल रहा था । अकेली माँ कहाँ रहेंगी सोच कर माँ गीता-दिनेश के साथ ही रहती थीं इसलिए सोचा विदेश में परेशान होने से अच्छा था कि एक बच्चा माँ और गीता के पास पल जाए । बस बीस दिन के बाबू को लेकर भाई-भाभी हिंदुस्तान आ गए , तब तक गीता के पास सिर्फ़ चार वर्ष की पीकू थी , आदी का जन्म नही हुआ था । पीकू छोटे , गोल-मटोल भाई को देख कर पागल हो गई । नाच-नाच कर सारा घर सिर पर उठा लिया , सारे मौहल्ले में ख़बर दे आई कि मेरा छोटा भाई आया है । छोटा सा बाबू कुछ ही दिनों में सबका दुलारा बन गया था । बड़ा बेटा साल भर का था , माँ को पहचानने लगा था इसलिए उसे छोड़ना मुश्किल था , बाबू अभी रिश्तों को नही जानता था इसलिए उसे वही हिंदुस्तान में रहना पड़ा । भाई-भाभी उसे गीता की गोद में देकर वापस चले गए । माँ दिन-रात बाबू की देखभाल में व्यस्त हो गईं । एक साल बाद गीता फिर माँ बनी और घर में आदी आ गया , बाबू डेढ़ साल का हो गया था । पीकू और बाबू को एक नया खिलौना मिल गया । तीनों बच्चे गीता और दिनेश के लिए बराबर थे लेकिन गीता कहीं दिल ही दिल में बाबू के लिए कमज़ोर थी । उसे अगर कुछ हो जाता या एक-दो दिन के लिए उसे छोड़ना पड़ता तो वो बेचैन हो जाती थी । बाबू क्या सोचता था गीता के लिए वो नही जानती थी लेकिन अगर कोई ये कह देता कि वो उसकी असली माँ नही तो बाबू उदास होकर उसके पास आता और पूछता ,

मम्मी , वो चाचा कहते हैं कि आप मेरी असली माँ नही , मेरी असली माँ विदेश में है । क्या आप मेरी माँ नही ?

ये सुन कर गीता का दिल बिखर जाता और उसे सीने से लगा कर कहती ,

नही बाबू , चाचा ग़लत कहते हैं , मैं ही तेरी माँ हूँ और विदेश वाली भी तेरी माँ हैं । अबकी कोई ऐसा कहे तो कहना कि कृष्ण की भी तो दो माँ थीं । अगर कृष्ण की दो माँ हो सकती हैं तो मेरी भी हो सकती हैं ।

ये सुनते ही बाबू की आँखों में चमक आ गई और भागता हुआ चाचा के पास जाकर बोला ,

आपको इतना भी नही पता ! कृष्ण जी की दो मम्मी थीं , मेरी भी वैसे ही दो मम्मी हैं ।

इसके बाद से वो बेफ़िक्र हो गया और सबको ये बात बताता । उसके छोटे से दिल में न जाने कब से ये उल्झन चल रही होगी जो उस दिन सुलझ गई थी । बाबू मस्त बच्चा था , उसे एक पल भी बैठाना मुश्किल काम था । उसके मन में हर वक्त कुछ चलता रहता था , स्कूल की टीचर की यही शिकायत रहती कि वो एक जगह टिक कर बैठता ही नही । गीता बहुत समझाती ,

देख बाबू , स्कूल में टीचर को परेशान मत किया कर , अपनी सीट पर टिक कर बैठना चाहिए , क्लास में ईधर-उधर नही भागते ।

ये सुनकर बाबू की शैतान आँखें मुस्कुरा देती और हाँ में सिर हिला देता लेकिन बाबू तो बाबू था अगर एक जगह टिक कर बैठ गया तो वो बाबू कहाँ रहा । ये समझने – समझाने का सिलसिला यूँ ही चलता रहा लेकिन वो तो वही रहा । सब टी वी देखते और वो उल्टा बैठ कर सबको देखता , पता नही उसे सबके चेहरे पढ़ने में क्या मज़ा आता था । अगर बाबू को माँ अपने साथ दो-चार दिन को कहीं ले जातीं तो घर में सन्नाटा सा छा जाता , पीकू और आदी उदास उसके आने का इंतज़ार करते । उसके घर में घुसते ही खुशी की लहर उठ जाती , वे शावक के बच्चों की तरह एक-दूसरे के पीछे भागते , लोटपोट होते । हर संभव पागलपन करते वे बड़े होने लगे और वो दिन आ गया जब बाबू को अपने मम्मी-पापा और भाई के पास जाना था । पीकू सुनकर बहुत रोई लेकिन आदी इतना नही समझ पाया कि वो कितनी दूर और कहाँ जा रहा था । उसके लिए बाबू उसका बड़ा भाई था जो उसे गली के दादा की तरह सारी मुश्किलों से बचाता रहता था । शायद ये समझ बाबू को भी नही थी कि वो उन सबसे कितनी दूर और कहाँ जा रहा था । उसके छोटे से दिल-ओ-दिमाग़ में दुनिया और लोगों की दूरियों का अंदाज़ा नही था । उसके लिए ये सब कुछ साईकिल की राईड का सा था जो उसने ख़ुद सीखी थी लेकिन उसे ब्रेक लगाने नही आते थे । वो तो जब रुकना होता तो बस कूद जाता था फिर चाहे जो भी हो । वो बचपन से ही ऐसा था , गीता उसकी इन हरकतों से डर कर उसके पीछे भागती रहती थी । वो अब तक अपने सपनों में उसके पीछे ही भागती रहती है । बाबू बड़ा हो गया , उसने डरना तो जैसे सीखा ही नही था , शायद सारे डर को उसने छ साल की उम्र में पीछे छोड़ दिया था । समुद्र की गहराई से लेकर आसमान की ऊँचाईयों को वो आसानी से नाप देता था । उसका वो भागता मन गीता के मन को भारी कर देता था , मन की वो चुभन जाती ही नही थी कि उसने छोटे से बाबू को अकेला छोड़ दिया था । कुछ सालों बाद भाई-भाभी , बच्चों को लेकर हिंदुस्तान वापस लौट आए थे और वो उसी शहर में थे । बाबू कभी-कभी छिप कर स्कूल से गीता के पास आ जाता और उससे लिपट कर मम्मी कहता । वो कुछ खोया-खोया सा रहता था उसका चेहरा देख गीता भी कहीं डूबने लगती थी लेकिन दोनों मूक रहते थे । दुनिया के सामने अब बाबू उसे बुआ कहने लगा था , यही उसे समझाया गया था । उसने भी दुनिया को दिखाने के कई मुखौटे ओढ़ लिए थे । जब भी गीता उससे मिलती तो उसे लगता कि वो जो है वो दिखता नही और जो दिखता है वो है नही । अब भी वो एक पल टिक कर नही बैठता , उसके भीतर बहुत कुछ भरा था । कुछ था जिसकी उसे अब भी तलाश थी । लोगों की नज़रों में उसे अपनी ज़िंदगी का संतुलन बैठाना नही आता लेकिन गीता को लगता है कि वो अपनी सारी ऊर्जा उस संतुलन को बैठाने में ही लगाता है । उसे लगता है कि वो अब भी अकेला बढ़ रहा है वैसे ही जैसे छ साल का अकेला जा रहा था और बीच में अचानक मुड़कर देख लेता है कि कोई उसके साथ है या नही ।

 

माला जोशी शर्मा

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s