माया

बड़े जतन से इस तन को संवारा था ,
कितने लेप और तेल से इसको  सजाया था ,
दर्पण में देख देख अपने पर शरमाया था ,
कितनों को मैंने अपने रूप से रिझाया था ,
बहती दरया के किनारों को भी ठुकराया था ,
कैसा रूप की माया का जाल मैंने बिछाया था ,
बसंत ही बसंत था जीवन में , पतझड़ को मैंने भुलाया था ।
लंबी है डगर ,मंज़िल है अभी दूर यही मैंने दिल को समझाया था ।
चलते चलते कब आईना बदल गया समझ नही पाया था ।
धूप ने कब तन को झुलसाया समझ नही आया था ,
नदी के किनारों ने न जाने कब अपने साथ बहाया था ,
बसंत बीता ,पत्तों को झरते देख तब पतझर पर रोना आया था ,
मोह टूटा तो माया से धोखा मैंने खाया था ,
जिस तन को जतन से संजोया था ,
मिट्टी ही मिट्टी में उसको पाया था ,
मन कोने में खड़ा मेरी नादानी पे कितना मुस्काया था ।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s